सोमवती अमावस्या आज, अब अगले 11 साल बाद आयेगा ऐसा संयोग, यह करना होगा लाभकारी, पढ़ें..

नई दिल्लीः हिन्‍दू धर्म में सोमवारी अमावस्या का विशेष महत्व बताया गया है। शास्त्रों में कहा गया है कि माघ, पौष के महीने में नदी या सरोवर में प्रात: स्नान कर भगवान सूर्य को अर्घ्य देने से अमोघ फल प्राप्त होता है। खासकर अमावस्या और सोमवती अमावस्या का यह पुण्य को कई हजार गुना बढ़ा देता है।

पौष माह में सूर्य धनु राशि में होते हैं जिससे यह माह बहुत अच्छा माना जाता है। सोमवार को भगवान शिवजी का दिन माना जाता है। सोमवती अमावस्या तो भगवान शिवजी को समर्पित होती है। आज के दिन गंगा स्नान को बहुत ही शुभ माना गया है। मान्यता है कि गंगा जाना संभव न हो तो पास की नदी में स्नान करना चाहिए। इसके बाद भगवान शिव का अभिषेक और पूजा अराधना करनी चाहिए।

19-Dec

यह करना होगा लाभकारी:

शनिवार के दिन पीपल के जड़ में गंगाजल व काले तिल चढाने चाहिए। पीपल व बरगद के वृक्ष की पूजा करने से भी पितृदोष की शांति होती है। जिनकी कुण्डली में शनि के कारण चंद्रमा कमजोर हो रहा है या साढेसाती चल रही है और वह मानसिक परिस्तिथियों से रोज़ ग्रस्त होते जा रहे है। वे सोमवती अमावस्या के दिन दूध, चावल, खीर, चांदी, फल, मिष्ठान्न और कपडे आदि अपने पित्रों के लिए पिण्डदान करवाकर इतना पुण्य प्राप्त कर सकते है, जिससे उनकी कुण्डली में जरूरी ग्रहों की नकारात्मक ऊर्जा आश्चर्यजनक रूप से सकारात्मक रूप धारण कर लेगी।

jan sangathan

Media/News Company

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com