KMV में प्रसिद्ध बांसुरी वादक सुशिमता आचार्य व देबोप्रिया चटर्जी ने किया श्रोताओं को मंत्रमुग्ध

जालंधरः भारत की विरासत संस्था-कन्या महाविद्यालय, आटोनॉमस जालन्धर में स्पिक मैके के सहयोग से संगीत कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें हिन्दो स्तानी शास्त्रीय संगीत की परम्परा से जुड़ी विश्विख्यातत बांसुरी सुशिमता आचार्या व देबोप्रिया चटर्जी ने अपने रसमय संगीत की प्रस्तुतियों से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। शुभ महाराज ने उनकी तबले पर संगत की। कार्यक्रम का शुभारम्भ कलाकारों के पुष्पित अभिनंदन एवं ज्योति प्रज्ज्वलन की रस्म के साथ हुआ। इस कार्यक्रम के दौरान सुशिमता आचार्य व देबोप्रिया चटर्जी ने बांसुरी के द्वारा विभिन्न रागों की संगीतमय प्रस्तुति से श्रोताओं को रसमग्न कर दिया और अपने संगीत के अनूठे जुगलबंदी में सभी विद्यार्थियों और प्राध्यापकों को सहज ही बांध लिया। उल्लेखनीय है कि बांसुरी में उच्च श्रेणी के कलाकार के रुप में पहचान रखने वाली सुशिमता आचार्य व देबो प्रिया चटर्जी बांसुरी के विख्यात कलाकार हरि प्रसाद चौरसिया की शिष्या रही है।

19-Dec

विद्यालय प्राचार्य प्रो. अतिमा शर्मा ने सुशिमता आचार्य व देबोप्रिया चटर्जी एवं उनके सहयोगी कलाकारों की बेजोड़ प्रस्तुति के लिए उनके प्रति आभार व्यक्त किया और भारतीय शास्त्रीय संगीत को विश्व के कोने-कोने पहचाने दिलाने वाले कलाकारों को विद्यालय की ओर से स्मृति चिन्ह भेंट किए। प्राचार्य जी ने इस अवसर पर स्पिक मैके द्वारा भारत के युवाओं को भारतीय शास्त्रीय संगीत से जोड़े जाने के लिए किए जा रहे प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि के.एम.वी. भी अपने स्थापना काल से ही भारतीय संगीत के प्रचार-प्रसार के प्रति समर्पित संस्था रही है और इस प्रकार के आयोजन युवा पीढ़ी को भारत के संगीत की समृद्ध परम्परा के परिचित करवाले के लिए समय-समय पर ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन करता रहा है। आज के इस आयोजन के लिए प्राचार्य जी ने स्पिक मैके से आए प्रतिनिधियों एवं आर्गेनाईजिंग टीम के द्वारा किए गए प्रयासों की प्रशंसा की ।

jan sangathan

Media/News Company

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com