धन अर्जित करने वाला शुभ दिवस है धनतेरस, जानें इससे जुड़ी खास बातें…

नई दिल्लीः धन्वंतरि दिवस यानि धनतेरस के दिन को धन अर्जित करने वाला शुभ दिवस माना जाता है। इस दिवस पर सोने एवं चांदी के जेवरात, सम्पत्ति, भूमि एवं बर्तन खरीदने की प्राचीन परम्परा है, जो आज भी कायम है। लोक मान्यता है कि धनतेरस के दिन घर में लक्ष्मी का प्रवेश होता है। धनतेरस पर सोना, चाँदी के जेवरात, सम्पत्ति, भूमि एवं बर्तन खरीदने की प्राचीन परम्परा है, अब फर्क इतना आया है कि पहले सालभर के लिए खरीददारी होती थी।

अब रस्म अदायगी के लिए खरीददारी करते हैं। धीरे-धीरे यह परम्परा का आधुनिकीकरण होता जा रहा है। आधुनिक युग में अब गरीब से धनवान तक सभी इस दिवस को अपने-अपने अंदाज में मनाने की कोशिश करते है। धनतेरस पर हर लोग अपनी क्षमता के अनुसार खरीददारी करते है। कोई बर्तन खरीदने में विश्वास रखता है, तो कोई आभूषण, मकान, वाहन एवं भूमि खरीदता है।

SEP1

पुरानी परम्परा और नये विचार के बीच समृद्धि के लिए इस दिन खरीददारी करने को सर्वोत्तम दिन माना जाता है। धनतेरस की पहचान भगवान धन्वंतरि के जन्म दिवस से बनी है। धनतेरस को चिकित्सीय प्रणाली प्रणेता एवं आदिकाल के वैद्य के रूप में प्रख्यात भगवान धन्वंतरि के पूजा-अर्चना के लिए भी जानी जाती है। कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष के त्र्योदशी तिथि के दिन ही भगवान धन्वंतरि का जन्म हुआ था, जिसे हम धनतेरस के रूप में मनाते है।

लोकमान्यता है कि जिस तरह वैभव की देवी लक्ष्मी सागर मंथन से उत्पन्न हुई थी, उसी प्रकार भगवान धन्वंतरि भी सागर मंथन से ही उत्पन्न हुए थे। जब वे प्रकट हुए थे, तो उनके दोनों हाथों में अमृत से भरा कलश था। इसी लिए आज के दिन को बर्तन खरीदने की परम्परा भी है। भगवान धन्वंतरि की पूजा से घर में धन का आगमन होता है और परिवार में स्वस्थ एवं समृद्धि आती है।

SEP2

भगवान धन्वंतरि देवताओं के वैद्य और चिकित्सा के देवता माने जाते है। इसी लिए चिकित्सकगण भी धनतेरस के दिन को महत्वपूर्ण मानते है। ऐसा माना गया है कि आज के दिन धन खरीदने से उसमें 13 गुणा वृद्धि होती है।

आज के दिन चांदी खरीदने का प्रचलन होने के पीछे यह मान्यता है कि चांदी चन्द्रमा का प्रतीक है, जो शांति और शीतलता प्रदान करती है और मन को संतोष देती है। आज ही के दिन मिथिलांचल में गणेश-लक्ष्मी की प्रतिमा खरीदने की भी प्रथा है और लोगों ने खरीददारी भी की है।

jan sangathan

Media/News Company

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com